Pages

Subscribe:

Friday, May 29, 2020

आखिर दोषी कौन ?


-अंजलि सिन्हा


राष्ट्रीय  राजधानी क्षेत्र में स्थित लोनी के चिरोडी गांव से एक विचलित करनेवाली ख़बर आयी है, जिसमें एक पिता द्वारा अपनी सन्तानों की हत्या करने की कोशिश की गयी है।


समाचार के मुताबिक पिता ने  अपनी दो बेटियों और दो नातिनों को एक कमरे में बंद कर आग के हवाले कर दिया था, जिसमें एक बच्ची की मौत हो गई। आरोपी ने आग लगा कर आग की सूचना खुद ही पुलिस को दी और जुर्म भी कबूल किया। उसके मुताबिक उसकी दो बेटियों की शादी अलीगढ़ में हुई थी, एक बेटी के दो बेटे और दो बेटियां है तो दूसरी बेटी के एक बेटा है। पिछले दो साल से दोनों बेटियां अपने पांचों बच्चों के साथ मायके में ही रह रही थीं। सलीम चाहता था कि बेटियां अपने ससुराल जायें, अपना घरबार संभाले। लॉकडाउन में सलीम और भी परेशान हो गया। सलीम ने पुलिस को बताया कि बेटियां जब चाहें घर से बिना बताये कई दिनों तक गायब रहती थीं और फिर आ जाती थीं। उनके व्यवहार से वह तंग आ गया था। सलीम की पत्नी और बेटा उसके इस व्यवहार से स्तब्ध हैं। ठेले पर फल बेचनेवाले सलीम ने जो अपराध किया है , वह अक्षम्य है और अब उसे इसकी सज़ा भी भुगतनी पड़ेगी। वह गिरफतार हो गया है। 

Tuesday, May 5, 2020

स्कूली बच्चे: वयस्क विकार !

क्या फिर से चर्चा सज़ा की सख्त़ी के इर्दगिर्द घुमेगी ?

- अंजलि सिन्हा

इन्स्टाग्राम पर बना बच्चों का एक ग्रुप इन दिनों देश की सूर्खियों में है।

वजह यह नहीं है कि यह बच्चे दक्षिणी दिल्ली के नामी स्कूलों में पढ़ते हैं - और जाहिरसी बात है सम्पन्न परिवारों से हैं। दरअसल कक्षा 11 वीं और 12 वीं के छात्रों की इन्स्टाग्राम पर डाली कई सारी पोस्टस से यह विवादों में हैं।

‘बॉयस लॉकर रूम’ नामक इस ग्रुप में लड़कियों के फोटो, उस पर अश्लील टिप्पणियां, यौनिक भाषा तथा इतनाही नहीं बलात्कार जैसे आपराधिक हिंसक व्यवहार को भी बड़े सहज ढंग से व्यक्त किया गया है। 

दक्षिणी दिल्ली की उस लड़की के साहस की तारीफ करनी पड़ेगी जिसने इनमें से कुछ मेसेजेस मीडिया के सामने रखे, जिन्हें देख कर सभी हतप्रभ हैं कि हमारी किशोर पीढ़ी क्या कर रही है ?

इसमें बच्चे बड़े ही कैजुअल ढंग से रेप की बात कर रहे हैं, सेक्सुअल ऑब्जेक्टिफिकेशन कर रहे हैं। स्कूलों में गहरे में व्याप्त मिसोजिनी/नारीद्वेष का यह एक नमूना है। और यह सब अव्वल कहे गए स्कूलों का मामला है। औरत के शरीर के उपभोग तथा वस्तुकरण की मानसिकता इसमें साफ देख सकते हैं। भददे मज़ाक और जोक्स भी इसमें शेयर किए गए हैं।