Pages

Subscribe:

Sunday, August 14, 2016

GENDERED VIOLENCE AND INDIA’S BODY POLITICS

- Manali Desai

The paradox of rape is that it has a long history and occurs across all countries, yet its meaning can best be grasped through an analysis of specific social, cultural and political environments. Feminist writing on citizenship and the state has long noted the relevance of women’s bodies as reproducers of the nation; it is equally important to think about the uses of the sexed body in a political context. A consideration of gendered violence as part of a continuum of embodied assertions of power can not only tell us how masculine supremacy is perpetuated through tolerated repertoires of behaviour, but also help us to understand how forms of class, kinship and ethnic domination are secured—and what happens when they are disrupted. Rape, Joanna Bourke has observed, is a form of social performance, the ritualized violation of another sexed body. [1]This is no less true for such apparently depoliticized though grievous forms of violence as the now infamous gang rape of Jyoti Singh, a young woman returning from a night out in New Delhi in December 2012.

Thursday, August 4, 2016

मेंढक की हदे-निगाह

– रवि सिन्हा


अक्सर ऐसा होता है किसी मामूली लफ़्ज़ में आमफ़हम मायनों के साथ-साथ गहरे, फ़लसफ़ाना मायनों की गुंजाइश भी छिपी रहती है। हदे-हिगाह जिसे संस्कृत में क्षितिज और अंग्रेज़ी में होराइज़न कह सकते हैं, एक ऐसा ही लफ़्ज़ है। आमफ़हम मायने तो यही है कि जहाँ तक आपको दिखाई दे वह आपकी हदे-निगाह हुई। मामूली लफ़्ज़ों के मुहावरेदार इस्तेमाल भी हो सकते हैं। मसलन, आपकी तंग नज़री और ख़ुदग़र्ज़ी से परेशान कोई शख़्स आप पर यह तोहमत लगा सकता है कि आपकी हदे-निगाह आपकी अपनी ही नाक की छोर पर ख़त्म हो जाती है। मगर, चूँकि, मेरा ताल्लुक़ आपकी निजी ज़िंदगी और शख़्सियत से नहीं है, इसलिए इस लफ़्ज़ का मेरा इस्तेमाल मुहावरेदार नहीं है। मेरा ताल्लुक़ एक सभ्यता, एक सिविलाइज़ेशन की शख़्सियत से है। ऐसे मामलों में, अमूमन, लफ़्ज़ों के फ़लसफ़ाना मायनों की ज़रूरत पड़ती है। लिहाज़ा, पहले यह साफ़ कर लेना होगा कि हदे-निगाह के इस्तेमाल में फ़लसफ़ाना गुंजाइशें क्यों हैं और कितनी हैं