Pages

Subscribe:

Thursday, December 24, 2015

स्त्राी सम्मान दिवस

इस वर्ष स्त्राी सम्मान दिवस का पहला कार्यक्रम रोहिणी के सेक्टर 17 में 11 दिसम्बर को आयोजित हुआ। इस कार्यक्रम में इलाके की महिलाएं एकत्रा हुईं तथा दिवस की ऐतिहासिक प्रष्ठभूमि पर भाषणों तथा चर्चा के बाद आज के वर्तमान समय में स्त्राी सम्मान का क्या मतलब है तथा वह कब कब कहां कैसे टूटता है इस पर चर्चा हुई। आने वाले समय में हमारी गतिविधियां क्या होनी चाहिए और हमारी भूमिकायें कैसे सुनिश्चित हो सकें इस पर बात तथा गाने के बाद कार्यक्रम समाप्त हुआ। 
इस सिलसिले में दूसरा कार्यक्रम में रोहिणी के ही सेक्टर 15 के सेन्टल पार्क में 19 दिसम्बर को आयोजित किया गया। इसमें स्त्राी सम्मान दिवस के बारे में बात होने के बाद सभी प्रतिभागियों को पेपर तथा पेंसिल दिया गया तथा अपना नाम लिखे बिना लोगों को अपना कोई अनुभव लिखने को कहा गया कि जिसमें उन्हें यह एहसास हुआ हो कि हम लड़की हैं तथा यह भी अनुभव हुआ हो कि हम फलां जाति-बिरादरी या समुदाय के है। इस अनुभव बांटने के माध्यम से यह चर्चा हुई कि जिस तरह मनुस्म्रति की शिक्षा की बात हो रही थी वह विभिन्न माध्यमों से हम तक पहुंचता है और समाज में हमारी पहचान जो जेण्डर या जाति की बनती है वह गैरबराबरी तथा भेदभाव पर आधारित कैसे बन जाती है। फिर इस चर्चा को स्त्राी सम्मान के मुददे से जोड़ा गया।



0 comments:

Post a Comment